Sunday, April 26, 2015

इतना आसान होकर मत जी तेरे हक की सरजमी ना रहे!!!!!1

इतना आसान होकर मत जी तेरे हक की सरजमी ना रहे
शोक से जी अपनी ये ज़िदगी ,कुछ खो जाने से कभी थमी ना रहे!!!!
...................................................
हर अरमान ये सारा आसमान तेरा,
जी एसे की बस होस्लो मे कमी ना रहे
मुस्कुरा ले तू भी किसी की मुस्कुराट पर,
तेरे होने से किसी की आखो मे नमी ना रहे
उड़ लेकर अपने ख्वाहिशो को साथ,
भूल मत तेरे वजुद की मिट्टी ये जमी ना रहे
ज़िदगी ये हार ओर जीत का खेल हे,
सिख ,ज़िदगी से शीकायत कोई गल्तफहमी ना रहे
व्क्त बहूत थोडा हे ज़िदगी का ये,
मुक्कम्ल होकर जी ले क्ल हमी ना रहे या तुमी ना रहे
p@W@n

No comments:

Post a Comment