Friday, April 17, 2015

एक शायर का दिल बदलता जरुर हे.........!!!

वेसे तो ये दिल तेरी हर आहट रखता हे,
पर ये कुछ नही बस सुकुन की चाहत रखता हे!!!!!!!!
................................................. ....
सब कहते हे हम बडे हो गये,
पर दिल वही नादानी वही शरारत रखता हे,

बदलते वक्त के इस दोर मे ये,
बेपनहा मोहब्बत तो थोड़ी करवाहट रखता हे,
मुकमल हो की खुदारी से जी सके,
ये दिल रब से हर पल यही राहत रखता हे,
एक शायर का दिल बदलता जरुर हे,
पर ये खुद मे एक सच एक शराफत रख्ता हे
P@w@N

2 comments: