Thursday, April 2, 2015

ह्म इस इश्क को इसी मोड पर अजाम दे

ह्म इस इश्क को इसी मोड पर अजाम दे,
तुझे बेवफा कहे तुझे बेवफा का नाम दे!!!!!!
................................................. .............
तेरी खामोशी को इश्क अक्सर समझा गया,
दिल कहता हे ना ह्म अब इश्क के पेगाम दे,

कुछ पल खुद के लिए भी जिए,
यू भी किसी के लिए अपनी हसरते तमाम दे,

दिल खाली होगा तो तडपना लाजमी हे,
ना मिले वकत कुछ इसे भी ऐसा काम दे,

खुद के कातिल हम खुद ही निकले,
ऐसा कहकर ना ह्म खुद को बार -2 इल्ज़ाम दे

p@W@n

No comments:

Post a Comment