Monday, April 6, 2015

चलते- चलते मिसाले आती जायेगी....!

चलते- चलते मिसाले आती जायेगी,
बुझकर फिर जलती मशाले आती जायेगी,

गुरुर ना कर अपने इस वक्त पर,
ये रोशनी कभी तेरे कभी मेंरे हवाले आती जायेगी,

हूनर तो सीख ले जीने का अब,
ये यादे कभी आसू बनकर ख्याल आती जायेगी,

अब जीने का होसला मत खो,
हर बार मुडकर हवाओ की चाल आती जायेगी,

जीना सीख उलझ मत जिदगी में,
वरना हर रात बनकर सवाल आती जायेगी
p@W@n

No comments:

Post a Comment