Friday, September 18, 2015

ना हमे कभी कोडिग का फंडा आया !

ना हमे कभी कोडिग का फंडा आया,
फर्क भी नही मार्क्स anda आया,
पर हमने हर व्क्त जीना सीखा,
लडे हरदम चाहे हारे या जीते,
हमने खुद से अपने रास्ते बनाये,
हम वो थे जो इंजिनीयर्स कहलाये

कभी तन्हा ही वक्त गुजारा
कभी हसते-२ गुजर गया वक्त सारा,
नाम भी दिए गये नकारा,आवारा,
पर हम वो थे जो उम्मीदो मे जीये,
हर एक खवाब को हकीकत मे लाये
हम वो थे जो इंजिनीयर्स कहलाये
हमने सीखा दिल को समझाना,
साथ-२ हसकर सबको हसाना,
जब तक अपनी हस्ती रही,
तब तक चलती मस्ती रही,,
अपनी ज़िदगी मे हर सार ज़िदगी पाये
हम वो थे जो इंजिनीयर्स कहलाये
Happy Engineers Day to ALL...

No comments:

Post a Comment