Tuesday, February 16, 2016

मै सिर्फ़ कभी दिन ,कभी रात का session प्रिये !!

मै सिर्फ़ कभी दिन ,कभी रात का session प्रिये ,
हर दम बढाता किसी का escalation प्रिये,
तुम हर ज़िदगी को भाता fashion प्रिये,
तुम हो हर दिल का True emotion प्रिये,
केसे होगा तुम ही बताओ अपना मेल प्रिये,

तुम बनायी गयी खुदा की खुबसूरत दिन हसीन रात प्रिये,,
तुम हो खवाब ,तुम हो मकसद ,,तुम हो सोगात प्रिये
मै सिर्फ़, हा मे हा रखता , इतनी ओकात प्रिये,
मेरे सिर्फ़ restarting mode के हालात प्रिये
  केसे होगा तुम ही बताओ अपना मेल प्रिये,

मै सिर्फ़ बनकर रह गया unix की "ps" command प्रिये
तुम एक हसीन खवाब , हर दिल की सिर्फ़ "yes" command प्रिये
केसे होगा तुम ही बताओ अपना मेल प्रिये,

‪#‎JustITworking‬
p@W@n

No comments:

Post a Comment