Monday, September 25, 2017

मैं हजार ख्वाहिशें लेकर बैठा हूं

मैं हजार ख्वाहिशें लेकर बैठा हूं
वो कहता हे अभी और सबर रख,

मुझे अपने घर के हलात मालूम नही,
वो कहता है मेरे शहर की खबर रख

में भूल गया हूं अपने गाव जाना
वो कहता है मुझे हर शहर में घर रख,

निकलने की बात कहता गुजरे कल से
वो कहता है पर शायरी में तो असर रख

उसने देखे कहा है मेरे चोटों के निशान
वो कहता है आज भी ख्वाइशों में शिखर रख

Pawan

No comments:

Post a Comment